You could put your verification ID in a comment Or, in its own meta tag

Wednesday, 24 December 2014

Meeting update by NIRAHUVA

>>>>> 72825 शिक्षक भर्ती अपडेट <<<<<<
.
72825 शिक्षक भर्ती मामले में सुप्रीम कोर्ट द्वारा पारित अंतरिम आदेश के पश्चात आज शासन स्तर की बैठक शिक्षा मंत्री राम गोविन्द चौधरी के चैम्बर में सम्पन्न हुई,,जिसमें हीरालाल गुप्ता (प्रमुख सचिव्), सर्वेन्द्र विक्रम बहादुर सिंह (SCERT निदेशक), इश्तियाक अहमद (संयुक्त निदेशक), विजय बहादुर और विवेक वाष्णेय ( विशेष सचिव) और मनोज कुमार इत्यादि शामिल हुए तथा सुप्रीम कोर्ट द्वारा पारित आदेश के अनुपालन हेतु विस्तृत कार्ययोजना तैयार की गयी। आज इस... बैठक में कुछ महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए एवम् अब तक की तैयारियों/व्यवधानों के बारे में भी स्पष्ट दिशानिर्देश जारी किये गए हैं-

(1) सुप्रीम कोर्ट आदेश के अनुपालन में नियुक्ति-पत्र वितरण की प्रक्रिया दिनाँक 31 जनवरी तक सम्पन्न की जायेगी और अनुसूचित जाति/जनजाति, पिछड़ा वर्ग एवम् विशेष आरक्षण श्रेणी वाले अभ्यर्थी न्यूनतम 97 अंकों तक मान्य होंगे।

(2) यह आदेश 72825 पदों के सापेक्ष ही माना गया है और इससे सम्बंधित चौथी काउंसलिंग (जो कि दिनाँक 02 जनवरी 2014 से प्रस्तावित है) में दो-चार दिनों का फेर-बदल सम्भव हो सकता है,,किन्तु अभी तक इस बारे में कोई स्पष्ट निर्णय नहीं लिया गया है।

(3) द्वितीय काउंसलिंग में चयनित वे अभ्यर्थी जो 'मेरिट रिसफलिंग' के कारण तीसरी काउंसलिंग में हाई मेरिट अभ्यर्थियों द्वारा रिप्लेस किये जाने के कारण बाहर हुए हैं उनका डाटा अब अन्य सभी जनपदों से अनलॉक किया जा चुका है,,अर्थात जिनके काउंसलिंग लैटर में पहले एक ही जनपद (जहाँ काउंसलिंग करवाई थी) का नाम शो हो रहा था अब उनके काउंसलिंग लैटर में उन सभी जनपदों का नाम शो होगा जहाँ उन्होंने आवेदन किया था और जहाँ की कट-ऑफ मेरिट में वे आ रहे हैं ताकि चौथी काउंसलिंग में वे उन जनपदों में जाकर काउंसलिंग करवा सकें।

(4) जिन अभ्यर्थियों ने तीसरी काउंसलिंग में एक से अधिक जनपदों में काउंसलिंग करवायी है उन्हें किसी एक जनपद के चयन का अवसर दिया जाएगा,,इन अभ्यर्थियों में ज्यादातर महिला अभ्यर्थी हैं जिन्होंने चार-चार जनपदों में काउंसलिंग करवाई है,,फिलहाल इनका निराकरण एक बड़ी समस्या बनकर सामने आया है।

(5) 'रॉंग लिस्ट' में शामिल वे अभ्यर्थी जिन्होंने औपबंधिक काउंसलिंग करवाई है उन्हें फिलहाल नियुक्ति-पत्र नहीं दिया जाएगा,,किन्तु जिन अभ्यर्थियों को विभागीय/लिपिकीय त्रुटि के कारण औपबंधिक काउंसलिंग करवानी पड़ी थी उनका डाटा विभागीय जाँच/मिलान करके सही करने के पश्चात इस बार नियुक्ति-पत्र दिए जाने की योजना प्रस्तावित है। बाकी औपबंधिक अभ्यर्थियों को विचाराधीन रखा जाएगा।
.
(कुल मिलाकर हम टेट मेरिट अस्मिता को कायम रखने में सफल हुए और सर्वशक्तिमान समझी जाने वाली सपा सरकार को आखिरकार घुटनों के बल आना ही पड़ा,,,समस्त चयनित एवम् प्रतीक्षारत टेट भाइयों को निरहुआ की ओर से सुखद भविष्य की हार्दिक शुभकामनाएँ।)
.
जय हिन्द-जय टेट।।