You could put your verification ID in a comment Or, in its own meta tag

Tuesday, 22 January 2013

प्राइमरी शिक्षकों की भर्ती के लिए प्राप्तांक औसत के मुताबिक तैयार हुई रैंक,

प्राइमरी शिक्षकों की भर्ती के लिए प्राप्तांक औसत के मुताबिक तैयार हुई रैंक,
वेबसाइट पर अभ्यर्थियों के टीईटी अनुक्रमांक से जारी हुई जिलेवार रैंक
इलाहाबाद (ब्यूरो)। प्राइमरी विद्यालयों में शिक्षक भर्ती के लिए बेसिक शिक्षा परिषद ने मंगलवार को अभ्यर्थियों के प्राप्तांक के अनुरूप रैंक जारी कर दी। रैंकिंग
http://upbasiceduboard.gov.in
पर देखी जा सकती है। टीईटी पास अभ्यर्थियों की भर्ती के लिए मेरिट के बजाय रैंकिंग जारी होने से अभ्यर्थियों में भ्रम की स्थिति है। ज्यादातर जिलों में 68 से 70 फीसदी प्राप्तांक वालों की रैंकिंग 20 हजार से ऊपर है। कई जिलों में 68 फीसदी प्राप्तांक वालों की रैंक 45 हजार से अधिक है। अभ्यर्थी परेशान हैं कि जिस जिले में सात सौ या एक हजार पद हैं, वहां 70 फीसदी वालों की रैंक बीस हजार से ऊपर है तो चयन किस आधार पर होगा। अभ्यर्थियों की रैंक के अनुसार मेरिट उनके संबंधित जिले में 25 जनवरी तक भेजने की तैयारी है। काउंसलिंग 29 जनवरी से होगी।
मंगलवार को जारी रैंक में बीएड, बीएड विशेष शिक्षा, डीएड विशेष शिक्षा योग्यता वाले टीईटी पास अभ्यर्थियों को शामिल किया गया है। वेबसाइट पर अभ्यर्थी की जन्म तिथि और टीईटी का रोलनंबर भरने के बाद अभ्यर्थी को उन सभी जिलों की रैंकिंग मिल जाएगी, जहां भी उसने आवेदन किया है। यानी अगर अभ्यर्थी ने 20 जिलों से आवेदन किया है तो सभी जिलों में वह किस स्थान पर है, इसकी जानकारी मिल जाएगी। साथ ही जिले का रजिस्ट्रेशन नंबर, कैटेगरी रैंक, स्पेशल कैटेगरी रैंक भी जारी किया गया है।
स्‍वतंत्रता सेनानी कोटे को नहीं
मिली वरीयता ः पेज 11
काउंसलिंग के लिए जरूरी कागजात
रजिस्ट्रेशन का प्रिंट आउट
शुल्क की रसीद और ई-चालान का प्रिंट आउट
सभी शैक्षिक मूल दस्तावेज, जाति, निवास, विशेष आरक्षण संबंधी प्रमाण पत्र के दो सेट
दो पासपोर्ट साइज रंगीन फोटो
10 रुपये के नॉन ज्यूडीशियल स्टैम्प पर निर्धारित नोटरी की ओर से प्रमाणित शपथ पत्र
ई- आवेदन में निर्दिष्ट पहचान पत्र मूल रूप में
पता लिखे दो लिफाफे
एक ही जिले में कर सकेंगे दावा
काउंसिलिंग के दौरान एक जिले में अंतिम रूप से चयन होने के बाद किसी दूसरे जिले की काउंसलिंग में शामिल नहीं हो सकेंगे। ऐसे अभ्यर्थियों का मूल प्रमाण पत्र वापस नहीं किया जाएगा।