You could put your verification ID in a comment Or, in its own meta tag

Friday, 26 April 2013

teacher vacancy 27 april 2013


प्राथमिक स्कूलों में 10,800 शिक्षकों की भर्ती को आवेदन अगले महीने, शासनादेश जारी
लखनऊ : प्रदेश में बेसिक शिक्षा परिषद द्वारा संचालित प्राथमिक स्कूलों में 10,800 शिक्षकों की भर्ती के लिए तीन मई को जिलावार विज्ञापन प्रकाशित किये जाएंगे। इन पदों पर भर्ती के लिए राज्य या केंद्र द्वारा आयोजित अध्यापक पात्रता परीक्षा (टीईटी/सीटीईटी) उत्तीर्ण करने वाले वे अभ्यर्थी पात्र होंगे जिन्होंने स्नातक के साथ विशिष्ट बीटीसी, दो वर्षीय बीटीसी या बीटीसी उर्दू प्रवीणताधारी प्रशिक्षण प्राप्त किया हो। शिक्षकों की भर्ती के लिए अभ्यर्थियों से ऑनलाइन आवेदन आमंत्रित किये जाएंगे। इस संबंध में शुक्रवार को जारी शासनादेश में भर्ती प्रक्रिया 30 जून तक पूरी करने का निर्देश दिया गया है।

मेरिट के आधार पर चयन : अभ्यर्थियों का चयन मेरिट के आधार पर होगा। मेरिट के लिए गुणवत्ता अंक का निर्धारण हाइस्कूल, इंटरमीडिएट, स्नातक और प्रशिक्षण परीक्षा के प्राप्तांकों के आधार पर किया जाएगा।


अभ्यर्थियों की आयुसीमा : आवेदन करने के लिए पहली जुलाई 2013 को अभ्यर्थी की न्यूनतम आयु 21 वर्ष और अधिकतम 35 साल से अधिक नहीं होनी चाहिए।
ऐसे करना होगा आवेदन : अभ्यर्थी विज्ञापन प्रकाशन की तारीख के एक हफ्ते बाद निर्दिष्ट वेबसाइट पर ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कर सकेंगे। रजिस्ट्रेशन के बाद ई-चालान से जिले में भारतीय स्टेट बैंक की किसी भी शाखा में सचिव उप्र बेसिक शिक्षा परिषद, इलाहाबाद के नाम निर्धारित आवेदन शुल्क जमा करना होगा। आवेदन शुल्क जमा करने के दो बैंकिंग कार्यदिवस बाद अभ्यर्थी को ऑनलाइन ई-आवेदन पत्र भरना होगा। ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन शुरू होने से 21 दिन तक ई-आवेदन पत्र भरे जा सकेंगे। ई-आवेदन पत्र ई-आवेदन पत्र भरने की अंतिम तारीख से दो दिन पहले तक ही ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन और ई-चालान जमा किये जा सकेंगे।
रिजल्ट जून में : मेरिट के आधार पर जिले में चुने गए अभ्यर्थियों की श्रेष्ठता सूची ई-आवेदन पत्र भरने की अंतिम तारीख के एक हफ्ते बाद यानी जून में वेबसाइट पर जारी कर दी जाएगी। चयनित अभ्यर्थियों की काउन्सिलिंग श्रेष्ठता सूची जारी होने के तीन दिन बाद शुरू हो जाएगी। अभ्यर्थियों के अभिलेखों का सत्यापन और उनका चिकित्सीय परीक्षण काउन्सिलिंग की तारीख से अगले 10 दिनों में कराया जाएगा।
यह होगी फीस : सामान्य और पिछड़ा वर्ग के अभ्यर्थियों को ई-चालान के जरिये 500 रुपये तथा अनुसूचित जाति/जनजाति के अभ्यर्थियों से 200 रुपये बतौर आवेदन शुल्क जमा करना होगा। विकलांग अभ्यर्थियों को शुल्क में छूट होगी।
कहां कितने पदों पर होगी भर्ती -मेरठ, बागपत, गाजियाबाद, हापुड़, गौतमबुद्ध नगर, लखनऊ, बलरामपुर, कानपुर नगर में से प्रत्येक में 10

-एटा में 30

-मिर्जापुर, सोनभद्र व हमीरपुर में प्रत्येक में 40

-लखीमपुर खीरी-45

-श्रावस्ती, औरैया, जालौन व महोबा में प्रत्येक में 50

-संत रविदास नगर, बांदा व महाराजगंज में प्रत्येक में 60

-चंदौली व महाराजगंज में प्रत्येक में 70

-सिद्धार्थनगर में 80

-पीलीभीत व गोंडा में प्रत्येक में 85

-सीतापुर व संत कबीर नगर में प्रत्येक में 90

-कुशीनगर में 95

-मुरादाबाद, मुजफ्फरनगर, बहराइच, रामपुर, अमरोहा, इटावा व कानपुर देहात में प्रत्येक में 100

-संभल में 105

-शाहजहांपुर व चित्रकूट में प्रत्येक में 110

-कासगंज में 115

-शामली व ललितपुर में प्रत्येक में 120

-फिरोजाबाद व कौशाम्बी में प्रत्येक में 125

-हाथरस में 135

-मथुरा व सहारनपुर में प्रत्येक में 140

-झांसी में 145

-सुल्तानपुर, अमेठी, फर्रुखाबाद, कन्नौज में प्रत्येक में 150

-अंबेडकरनगर में 160

-मैनपुरी व मऊ में प्रत्येक में 180

-वाराणसी में 190

-अलीगढ़ में 195

-गाजीपुर, फतेहपुर, बस्ती में प्रत्येक में 200

-प्रतापगढ़, बदायूं में प्रत्येक में 215

-बाराबंकी में 220

-आगरा, हरदोई में प्रत्येक में 230

-फैजाबाद में 235

-गोरखपुर में 245

-बिजनौर में 250

-बरेली में 275

-देवरिया में 285

-रायबरेली में 290

-उन्नाव में 310

-आजमगढ़ में 330

-बलिया में 350

-इलाहाबाद में 485

-बुलंदशहर में 500

-जौनपुर में 580


यूपी टीईटी प्राइमरी में इस बार प्राइमरी शिक्षकों की बीएड को जगह नहीं
मेरठ: यूपीटीईटी शिक्षक पात्रता परीक्षा की आनलाइन आवेदन शुरू हो गई है। इस बार प्राइमरी शिक्षकों की अर्हता में बीएड बेरोजगारों को जगह नहीं मिली है। यानी एक से पांचवीं कक्षा तक शिक्षक बनने वाले बीएड डिग्रीधारी टीईटी की परीक्षा में नहीं बैठ पाएंगे।
लाखों रुपये फाइनेंस कालेजों को भरने के बाद बीएड डिग्री हासिल करने वाले युवक और युवती यूपीटीईटी करके प्राइमरी शिक्षक बनने का सपना देख रहे थे, जिसे प्रदेश सरकार ने चकनाचूर कर दिया है। यूपीटीईटी में प्राइमरी शिक्षक की अर्हता के लिए बीटीसी, एटीटी, दो वर्षीय बीटीसी उर्दू आदि किए अभ्यर्थियों को आनलाइन आवेदन करने की अर्हता है। बीएड को प्राइमरी शिक्षक से बाहर कर दिया गया है। ऐसे में काफी संख्या में बीएड बेरोजगारों के भविष्य पर संकट गहरा गया है। सेल्फ फाइनेंस कालेज शिक्षक संघ के अध्यक्ष डा. नरेंद्र तोमर ने बताया कि सरकार के इस फैसले से बीएड बेरोजगारों को काफी निराशा हुई है। पहले से जिन्होंने जूनियर स्कूल के लिए टीईटी निकाला है, उनके लिए नियुक्ति प्रक्रिया शुरू नहंी हुई, ऐसे में अब केवल जूनियर में बीएड अभ्यर्थियों को टीईटी की परीक्षा देने का विकल्प बचा है। जो बीएड डिग्रीधारियों को बेरोजगार बनाएगा
अध्यापक पात्रता परीक्षा (टीईटी) में बीटीसी डिग्रीधारकों के लिए स्नातक में 50 प्रतिशत अंकों की शर्त समाप्त
uptet 27 april 2013
लखनऊ (ब्यूरो)। अध्यापक पात्रता परीक्षा (टीईटी) में बीटीसी डिग्रीधारकों के लिए स्नातक में 50 प्रतिशत अंकों की शर्त समाप्त कर दी गई है। अब स्नातक में 50 प्रतिशत से कम अंक पाने वाले बीटीसी, डीएडधारक भी आवेदन कर सकेंगे।
विभागीय जानकारों के अनुसार 2001 से पहले प्रदेश में बीटीसी में प्रवेश के लिए परीक्षा होती थी। बाद में मेरिट की व्यवस्था की गई जिसमें स्नातक में 50 प्रतिशत अंक की बाध्यता कर दी गई। राष्ट्रीय अध्यापक शिक्षा परिषद ने भी अपने नियमों में स्नातक में 50 प्रतिशत से कम अंकों की छूट दे रखी है। शासनादेश के अनुसार यदि कोई अभ्यर्थी केवल भाषा शिक्षक केलिए टीईटी करना चाहता है तो वह सिर्फएक भाषा के लिए टीईटी दे सकेगा। यदि कोई उर्दू केलिए फार्म भर देता है तो वह अन्य किसी भाषा के लिए आवेदन नहीं कर पाएगा। शासन ने मंडल मुख्यालय से 15 किमी दूर भी परीक्षा केंद्र बनाने की अनुमति दे दी है